Followers

Thursday, December 30, 2010

बर्फ गर्म है




बर्फ की वादियों में
धुंआ और भाप
क्या बर्फ गर्म है //

ओठ सिले
आँखें नम
क्या बर्फ गर्म है //

रोड़ेबाजी
गोलियों की तडतड़ाहट
क्या बर्फ गर्म है //

सूखे सेव /अखरोट
और पत्ते विहीन चिनार
क्या बर्फ गर्म है //

सच है ॥
बर्फ की तासीर गर्म होती है //

14 comments:

  1. वाह बबन जी, कितने सरल शब्दों में कितनी गहरी बात कह दी आपने.................बहुत खूब...................काश बर्फ की तासीर थोड़ी ठंडी हो जाए !!!!

    ReplyDelete
  2. bahut hi accha expression sach hai ki barf bahut zyada hi garm hai

    ReplyDelete
  3. गहरी कविता, संक्षेप में।

    ReplyDelete
  4. barf garm aur aag thandhi hoti ja rahi hai.

    ReplyDelete
  5. सच है.
    बर्फ तो पिघल जाती है.
    वादी तो दशकों से जमी हुई है. .....................
    .....................
    बहुत सुन्दर बबन जी. दिल को छूने तथा दिमाग को सोचने पर मजबूर करनेवाली कविता है.

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द ...।

    ReplyDelete
  7. आदरणीय ब्लागमित्र

    नमस्कार और नये साल की शुभकामनाऐं

    ReplyDelete
  8. बर्फ की तासीर गर्म है...सुन्दर पंक्तियाँ।

    ReplyDelete
  9. रोड़ेबाजी
    गोलियों की तडतड़ाहट
    क्या बर्फ गर्म है

    सच है ॥
    बर्फ की तासीर गर्म होती है

    बहुत सुंदर रचना . बधाई .

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण अभिव्यक्ति ,बधायी ।
    नव वर्ष शुभ हो !

    ReplyDelete
  11. आपके जीवन में बारबार खुशियों का भानु उदय हो ।
    नववर्ष 2011 बन्धुवर, ऐसा मंगलमय हो ।
    very very happy NEW YEAR 2011
    आपको नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें |
    satguru-satykikhoj.blogspot.com

    ReplyDelete
  12. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द|आपको नववर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें |

    ReplyDelete
  13. आपको तथा आपके परिवार के सभी जनों को वर्ष २०११ मंगलमय,सुखद तथा उन्नत्तिकारक हो.

    ReplyDelete

Popular Posts