Followers

Tuesday, December 28, 2010

हवा ! मुझे माफ़ कर दो


ओ री हवा
दोस्त तो हजारों में है
मगर निभाई सिर्फ तुमने //

तुम ही एक हो
जो मेरे घर आती हो
कभी खिडकियों से
कभी दरवाजों से
और प्यार की एक चप्पी दे
नींद में सुला देती हो //

बादलों को भी साथ लाती हो
मेरे घर की बगीया
हरी -भरी करने के लिए //

मेरे फेफड़ों को
मजबूत करने वाली हवा
मैं अपनी दोस्ती ठीक से नहीं निभा रहा
प्रदूषित कर रहा हूँ मैं
आदमी जो ठहरा
हवा का मोल नहीं समझता //

7 comments:

  1. भहुत आकर्षक रचना !

    ReplyDelete
  2. आदमी जो ठहरा
    हवा का मोल नहीं समझता

    बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द ।

    ReplyDelete
  3. आदमी जो ठहरा
    हवा का मोल नहीं समझता
    सही कहा है... हम कहां समझते हैं मोल...

    ReplyDelete
  4. हमें भी अपने कर्तव्यों का निर्वाह करना है।

    ReplyDelete

Popular Posts