Followers

Thursday, February 10, 2011

नीलगगन सी तेरी साडी


नीलगगन सी तेरी साडी
गहने चमके जैसे मोती
आओ प्रिय ,अब साथ चले
हम बनके जीवन साथी //

उपवन के फूलों सी जैसी
खुशबू तेरे बालों की
परागकणों से लदे हुए
क्या कहने तेरे गालों की //


यौवन की चादर में लिपटी
तेरी कंचन चितवन काया
रहकर तेरे संग- संग
अपने को सुवासित पाया //

अधरों का रस अमृत जैसा
नैन तुम्हारे गाए गीत
मखमली देह देख तुम्हारा
कामदेव नित मांगे भीख //

मैं तेरी कूँची बन जाऊ
तू बन जा मेरी कविता
दिन -रात चमकेंगे नभ पर
बन कर शशि और सविता //

22 comments:

  1. WAH BABAN JI.....ROMANCE KI HADD TAK PAHUNCH JAATE HAI.....AAP......

    ReplyDelete
  2. WOW... Just this word is coming in my mind after reading ur this 'full of romantic' writting...!! :-)

    ReplyDelete
  3. MY PLEASURE JULIE JI ...
    POEMS COMPOSED...AT ONCE...WHEN INNER FEELING COMES

    ReplyDelete
  4. क्या बात है, भाई.
    सुन्दर रसभीनी कविता है.
    शुभ कामनाएं.
    एक बात तो बताएं?
    तस्वीर देख कर कविता कहते हो या कविता लिख कर तस्वीर ढूंढते हो?

    ReplyDelete
  5. बड़ी सुन्दर कविता, श्रंगार में पगी।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्‍छे....मजेदार

    ReplyDelete
  7. nice photograph----तस्वीर देख कर कविता कहते हो या कविता लिख कर तस्वीर ढूंढते हो?-----i agree with sagebob4 this piece of poetry

    ReplyDelete
  8. ye kavita to tasveer dekh kar likhi ..

    ReplyDelete
  9. nice sir ji...aapki lekhni ke kya kahne..jab kalam uthti hai to kuch achche hi shabd aa jate hai..kabhi madhubhari mithaas to kabhi saundary ka gungaan...nice

    ReplyDelete
  10. मैं तेरी कूँची बन जाऊ
    तू बन जा मेरी कविता
    दिन -रात चमकेंगे नभ पर
    बन कर शशि और सविता

    great!!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  11. बबन जी...........बहुत खूब...........बहुत बढ़िया........प्रेम रस से सरोबार आपकी यह रचना.......
    //अधरों का रस अमृत जैसा
    नैन तुम्हारे गाए गीत
    मखमली देह देख तुम्हारा
    कामदेव नित मांगे भीख ////........बहुत खूब....

    ReplyDelete
  12. both poem and pic are beautiful......writing very romantic these days...?????

    ReplyDelete
  13. अत्यंत कोमल,शीतल,सौम्य मगर उत्तेजक अभिव्यक्ति,
    "मैं तेरी कूँची बन जाऊं तू बन जा मेरी कविता"<>अति सुन्दर.
    "अपने होटों पर सजाना चाहता हूँ
    आ तुझे मैं गुनगुनाना चाहता हूँ"

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  15. बहुत भावपूर्ण काव्यमयी प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  16. बहुत बेहतरीन व भावपूर्ण प्रस्तुति|

    ReplyDelete
  17. प्रिय बंधुवर बबन पांडेय जी
    सादर अभिवादन !

    शायद पहली बार आया हूं आपके यहां …
    आपके यहां तो रूप रस में आकंठ भीगा यौवन कविता बन कर सबको मदहोश कर रहा है … क्या बात है !

    परागकणों से लदे हुए
    क्या कहने तेरे गालों की

    अनुपम ! अवसर मिलने पर भला कोई कैसे अधरों के निशान अंकित नहीं करना चाहेगा ? … :)

    अधरों का रस अमृत जैसा
    नैन तुम्हारे गाए गीत
    मखमली देह देख तुम्हारा
    कामदेव नित मांगे भीख


    फ़िदा हो गए जी हम तो …
    आप पर भी !
    आपकी रचना पर भी !!
    आपकी रचना की नायिका पर भी !!!


    प्रेम बिना निस्सार है यह सारा संसार !
    ♥ प्रणय दिवस की मंगलकामनाएं! :)

    बसंत ॠतु की भी हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं !

    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  18. एक-एक शब्द भावपूर्ण ..... बहुत सुन्दर रचना...

    ReplyDelete
  19. वाकई! असरदार अभिव्यक्ति है, बबन जी! देखा जाय तो आपने नारी के सारे गुणों, सोम्यता, ममता, चंचलता, मोहकता, सबका चित्रण श्रृंगारिक ढंग से, शब्दों में ऐसे पिरोया है की बस... ! उतेजना और सोम्य आनंद की अनुभूति होती है.
    आपकी यह रचना सविता की तरह ओजपूर्ण, तेजस्वी है और शशि की तरह शांत, मधुर, सोम्य, दीप्तिवान भी...
    सादर!

    ReplyDelete
  20. baban bhai namskar.........bahut hi sundar kavita aur, kya sundar bhavaybhivyakti hai....

    ReplyDelete
  21. मैं तेरी कूँची बन जाऊ
    तू बन जा मेरी कविता

    ReplyDelete
  22. अंजीर सोनवणेApril 5, 2013 at 8:49 PM

    बहुत हि मादक तथा मन कि गहराई को छुती कविता है मै तो यही कहुं कि आप कविता बनाते हो या रसिला चित्र खींचते हो, आप चित्रकार भी हो और कवि भी मेरे मन को यह कविता भा गई.

    ReplyDelete

Popular Posts