Followers

Thursday, January 13, 2011

मेरी सजनी


अनजान,अपरिचित थी तुम
जब आई थी मेरे आँगन
खोज रहे थे नैन तुम्हारे
प्रेम ,स्नेह का प्यारा बंधन //

जब आँगन में गूंजी किलकारी
खिल उठे चहु ओर कुमुदिनी
प्रेम का बंधन हुआ कुछ भारी
मनभावन,अनुपम मेरी सजनी //

उज्जवल,धवल,कमल सी कोमल
मख्खन सी फिसलन है उर में
जब सुर में गाए लव तुम्हारे
महक उठे धरा और अवनी//
कितनी अच्छी मेरी सजनी



तपती धूप से हमें बचाती
मधुमय यादों की छाया
सागर की लहरों सा झूमे
तेरी नाक की हमदम नथुनी //
कितनी अच्छी मेरी सजनी

तुम्हारी लम्बी काली जुल्फों से
ठिठोली करे पवन बसंती
मुस्कान तेरी है चन्द्र-किरण सी
तेरी हर बातें हैं रूमानी //
कितनी अच्छी मेरी सजनी
(चित्र मेरी पत्नी की है )

39 comments:

  1. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  2. धन्यवाद पाण्डेय जी भाभी जी पर इतनी सुन्दर रचना के लिए !

    ReplyDelete
  3. वाह वाह भ्राता श्री बहुत खुब ! नई नवेली दुल्हन के कोमल भावों को प्रगट करती आपकी ये बेजोड़ और अनुपम रचना !

    ReplyDelete
  4. अनजान, अपरिचित नैनो की बगिया में दिल कुछ यु खोया...
    हमको कवि, शायर और न जाने किस किस रस में डुबो डाला....

    ReplyDelete
  5. The most beautiful and heartfelt lines said by a MAN --for his better half--Wife...

    ReplyDelete
  6. बहुत ही सुन्‍दर शब्‍द ।

    ReplyDelete
  7. किसी अनजान से घर से लाकर सतह फेरों के बन्द्नो से बंधना ...जिसने जन्म से सबकुछ साथ गुजरा उस घर से अचानक हटना ...उन भावनाओ को फिर से अटूट बंधन में विश्वास के साथ बांधना इतना आसन नही शब्दों में ये सब जिम्मेवारी पुरुष की है ....की उसको आपने अन्दर विस्वास पैदा करने का समय दे ...आप की अच्छी भाव पुन रचना ...!!!!!

    ReplyDelete
  8. जय श्री कृष्ण...आप बहुत अच्छा लिखतें हैं...वाकई.... आशा हैं आपसे बहुत कुछ सीखने को मिलेगा....!!

    ReplyDelete
  9. इतनी सुन्दर रचना के लिए| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  10. आप दोनों को शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  11. खोज रहे थे...नैन तुम्हारे
    अति सुंदर...!

    ReplyDelete
  12. तारीफ किसकी करू। आपकी रचना की या आपके मनोभावों की।

    ReplyDelete
  13. बहुत ही सुन्दर रचना...प्रत्येक पंक्ति अपनत्व की भावना से परिपूर्ण है..हर शब्द दिल से निकले हुए प्रतीत होते है..

    ReplyDelete
  14. बेहद सौम्य रचना... प्रेम के मनोभावों से परिपूर्ण अभिव्यक्ति....

    ReplyDelete
  15. बहुत सुन्दर रचना है, शुभकामनाएं.........।

    ReplyDelete
  16. आपकी कविता पढ़ के मेरा शादी करना का मन हो गया है

    ReplyDelete
  17. bahut hee sunder rachna...aur sunder bhabhi ji to hain hee.. saadar...

    ReplyDelete
  18. उज्जवल,धवल,कमल सी कोमल
    मख्खन सी फिसलन है उर में
    जब सुर में गाए लव तुम्हारे
    महक उठे धरा और अवनी//
    कितनी अच्छी मेरी सजनी. waah. dil jeet liya aapne.

    ReplyDelete
  19. sajni ki bhavnaaye yadi sajan ji ko malum hai to usse badhiya javan saati ho hi nahi sakta.

    ReplyDelete
  20. baban bhai sahib kavita aur bhabhi ka chitra dono bahut sunder ..........sajni vahi jo piya man bhaaye ...........

    ReplyDelete
  21. wah wah mai kya tarif karu tarif ke liye to ap ne koi sabd hi nahi chhode,lajawab hai sir

    ReplyDelete
  22. bahut achha hai, bahut khoobsurat

    ReplyDelete
  23. प्रियतम द्वारा अपनी प्रियमवदा को आदरांजली..आप समाजिक पैरोकार के साथ सौंदर्य व्यखान में भी निपुण है..आपके साथ ही आपकी प्रेरणा को भी हमारा नमण..

    ReplyDelete
  24. तुम्हारी लम्बी काली जुल्फों से
    ठिठोली करे पवन बसंती
    मुस्कान तेरी है चन्द्र-किरण सी
    तेरी हर बातें हैं रूमानी //
    कितनी अच्छी मेरी सजनी
    बबन जी बहुत ही सुंदर रचना है , और आपकी श्रीमती जी भी बहुत ही प्यारी है, शुक्रिया सांझा करने के लिए..........:))

    ReplyDelete
  25. तारीफ के लिए सब्द नहीं है पर इतना जरुर कहूँगा कि आप कि कविता पढ़ने के बाद बहुत सारी पत्नीया गौरवान्वित महसूश करेंगी अति सुन्दरम

    ReplyDelete
  26. Ati sundar kavita hai aap ki..jis bhav se aap ne likha hai...Bhabhi jee tik waisi hi dikhati hai....Bhagawan aap dono ko salamat rakhe

    ReplyDelete
  27. Ugta hua suraj dua de aapko,
    Khilta hua phool khushboo de aapko|
    yahi dua dete hain aapko dost,
    Ki denewala hazar khushiyan de aapko||
    **************************************
    bhabhi ji ko mera namaskar, aapne to 2011 me baten karna hi chor diye , kamse kam ek msg hi kar dete , aap ko msg 3-4 bar kiya lekin koi jawab nahi aaya, sayad naraj honge,

    ReplyDelete
  28. chati chhath ke subh awsar par aapko aur bhabhi ji ko subh kamnayen, chhath maata aapki mano kamna purna kare,

    aapki kavita ke bareme kya kahun ...........

    "la-jawab"

    ReplyDelete
  29. kya baat hai baban bhai ,aap jaise bandhu log apne jeevan me jeevan sathi se jeevan bhar prem kar ke apna jeevan safal kar lete hai ,,,,apko jeevan bhar ka prem mubarak ho aur ye prem jeevan bhar bana rahe

    ReplyDelete
  30. badhai sir

    bhabhi ji ki icha puri hui jo aap ne un par itni khoobsurat kavita likh dali

    ReplyDelete
  31. sundar rachna .rom rom prafulit ho gaya

    ReplyDelete
  32. bahut sundar hai , sir jee/
    kaash ham par bhi koi aisee kavita likhta

    ReplyDelete
  33. भाव और रचना दोनों ही सराहनीय.......
    कृपया इसे भी पढ़े-
    नेता कुत्ता और वेश्या

    ReplyDelete
  34. mujhe apne aapse kabhi kabhi rashq hota hai ki ye hunar mujh mein kyon nahin

    ReplyDelete

Popular Posts