Followers

Wednesday, February 29, 2012

सागर अब झील में बदला


एक अन्जाने अपरिचित पथ पर चलकर मैंने तुझको पाया
स्नेह,प्यार और कोमलता का , मिला है अनुपम छाया //

मन में तम का जो घेरा था ,वह उज्जवल प्रकाश में फैला
उथल-पुथल सागर सा मन ,अब विशाल शांत झील में बदला //

मारे कोई जब अब कंकड़ , उठती है मन में प्यार की उर्मियाँ
अब गीत लिखेंगी परोपकार के , मेरी यह पाँचों अंगुलियाँ //

18 comments:

  1. Replies
    1. मारे कोई जब अब कंकड़ , उठती है मन में प्यार की उर्मियाँ
      अब गीत लिखेंगी परोपकार के , मेरी यह पाँचों अंगुलियाँ //
      WAAH KYA BAAT HAI... HAR SUBJECT KO AAP BAKHUBI UTAAR DETE HAI

      Delete
  2. मारे कोई जब अब कंकड़ , उठती है मन में प्यार की उर्मियाँ
    अब गीत लिखेंगी परोपकार के , मेरी यह पाँचों अंगुलियाँ //
    KYA BAAT HAI SIR.. JAI HO

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर भाव की रचना के लिए बधाई,...


    NEW POST ...फुहार....: फागुन लहराया...

    ReplyDelete
  4. खुबसूरत, मनमोहक व प्यारी हैं 'आपकी बातें'.. होली की शुभ कामनाएं.

    ReplyDelete
  5. मारे कोई जब अब कंकड़ , उठती है मन में प्यार की उर्मियाँ
    अब गीत लिखेंगी परोपकार के , मेरी यह पाँचों अंगुलियाँ


    bahut hi alag dhang se baat kahi hai sirji.. bahut badhiya likha hai :)

    ReplyDelete
  6. खुबसूरत अल्फाजों में पिरोये जज़्बात..

    ReplyDelete
  7. बहुत सुंदर भाव| होली की शुभ कामनाएं|

    ReplyDelete
  8. ati sunder shubh kamnayen

    ReplyDelete
  9. मारे कोई जब अब कंकड़ , उठती है मन में प्यार की उर्मियाँ
    अब गीत लिखेंगी परोपकार के , मेरी यह पाँचों अंगुलियाँ ...
    सार्थक रचना !

    ReplyDelete
  10. .......'मन में तम का जो घेरा था ,वह उज्जवल प्रकाश में फैला'.....अँधेरे से उजाले में परिवर्तन की एक सार्थक पहल..... आपको बधाई !

    ReplyDelete
  11. aachche bhaav ......lkhte rahiye aur hum sab ko yun hi padhwaate rahiye :)

    ReplyDelete
  12. सुन्दर सीख देती हुई रचना ..

    ReplyDelete
  13. बढ़िया रचना .प्रेम हाइकु भी बढ़िया कोमल भाव संजोये .

    ReplyDelete
  14. एक अन्जाने अपरिचित पथ पर चलकर मैंने तुझको पाया
    स्नेह,प्यार और कोमलता का , मिला है अनुपम छाया //
    अनजाने कर लें .
    अच्छा हाइकु .

    ReplyDelete
  15. इसे छोड़ कर बाकी की कविताएं तो लगता है आपने चित्र देख कर लिखी हैं इंजिनियर साहब:)

    ReplyDelete

Popular Posts