Followers

Saturday, February 18, 2012

महका दो मेरा घर-आँगन






तेरे गोरे बदन की खुशबू
जूही-चमेली सी महके
मेरे प्यार का गीत हमेशा
तेरी लवों पर चहके //

कोमल नयनों में नित
प्रेम की भाषा दहके
ख्याबों के घर में , तुम
नित दिन आना चुपके-चुपके //


महका दो मेरा घर -आँगन
इस ऋतुराज में दिलवर
भींग जाए मेरी यह अंखियाँ
जीवन भर हँसते-हँसते //

16 comments:

  1. Kavita ki aakhiri char line hi kavit ki jaan lagi.Rituraj ke aane ka swagat ka andaz achha laga.

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया गोपाल भाई ... स्नेह बनाए रखे ... प्रोत्साहित करते रहे

      Delete
  2. बहुत ही भावपूर्ण...
    वसंत की मनोभावना को पूर्णरूप से प्रदर्शित करती हुयी रचना!

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया chandan भाई ... स्नेह बनाए रखे ... प्रोत्साहित करते रहे

      Delete
  3. वाह!!!!!बबन जी बहुत खूब प्रेम के भावो की बहुत अच्छी प्रस्तुति,,,, सुंदर रचना

    MY NEW POST ...सम्बोधन...

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर रचना ...अंतिम चार पंग्तियों ने दिल हिला दिया

    ReplyDelete
  5. सुंदर प्रेम गीत. बढ़िया भावपूर्ण प्रस्तुति.

    ReplyDelete
  6. बहुत बेहतरीन....
    मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  7. komal ahsason kisundar abhivyakti-------
    poonam

    ReplyDelete
  8. बहुत ही अच्छी अभिवयक्ति......

    ReplyDelete
  9. सुन्दर श्रृंगार.

    ReplyDelete
  10. sunder abhivyakti hai

    ReplyDelete
  11. sundar rachna .man ko moh liya aap ki lekhni ne .

    ReplyDelete

Popular Posts