Followers

Friday, February 3, 2012

अनुभूति -४


वो महकते दिन
वो रंगीन रातें
सामने बैठकर
आँखों की खामोश बातें
तुम्हारे जाने के बाद
ये आँखे
अब रुलाती हैं //

वो महकती साँसें
वो छलकती बाहें
साथ-साथ रहने की कसमें
तुम्हारे जाने के बाद
अब सताती हैं //

5 comments:

  1. SIR JEE...
    JAB KISI SE PYAAR HO JAAYE..
    AUR JAB PYAAR DUR HO JAAYE TO..
    SHAAYAD AISAA HI HOTA HAI//

    ReplyDelete
  2. .. Dil ne dil ki baat samj li....ab kya kehna hai.
    Aaj nahi to kal keh lenge ... ab to sath hi rehna hai.....!!

    ReplyDelete

Popular Posts