Followers

Friday, February 24, 2012

फागुनी बयार



तड़पता हूँ ,मचलता हूँ और आहें भरता हूँ
कण-कण में अब रब नहीं ,तुम्हें देखता हूँ //

पहले अकेले में मिलने से कतराता था मैं
अब यादों को याद कर अपने को कोसता हूँ //

पा लू तेरे गोरे बदन की खुशबू , किसी तरह
इस उम्मीद में अब , फागुनी बयार को चूमता हूँ //

9 comments:

  1. बहुत,बेहतरीन अच्छी प्रस्तुति,सुंदर फागुनी रचना के लिए बधाई,.....

    MY NEW POST...आज के नेता...

    ReplyDelete
  2. बहुत खुबसूरत रचना अभिवयक्ति.........

    ReplyDelete
  3. हो जाएँगी जिन्दा सभी वीरान महफ़िलें.ये हमनशीं लबों की प्यास सभी जिन्दगी की हद में हैं ....उसको बना लो अपना जो उस पार भी चले ...बहुत - बहुत बधाई आदरणीय भाई जी ..//

    ReplyDelete
  4. सीने में उठती है जो लहर ,मुहब्बत नाम है ....दिलबरों का ऐसे ही नहीं चाहत - ऐ- इनाम है ..!!! बहुत -बहुत .बधाई आदरणीय भाई जी ..//

    ReplyDelete
  5. जय हो, नये मानक स्थापित कर रहे हैं..

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन प्रस्तुति,

    ReplyDelete
  7. फागुनी बयार को चूमता हूँ //
    WAAH SIR... BAHUT SUNDAR...

    ReplyDelete
  8. पा लू तेरे गोरे बदन की खुशबू , किसी तरह
    इस उम्मीद में अब , फागुनी बयार को चूमता हूँ //
    बहुत खूब तसव्वुर है .

    ReplyDelete

Popular Posts