Followers

Monday, January 10, 2011

कजरारे नैन


भौरे ने कली को छुआ
तो वह फूल बन गई
हवाओं ने मिटटी को छुआ
तो वह धूल बन गई
आपकी कजरारी नैनो ने
देखा मुझे इस कदर
कि वह दिल का शूल बन गई //

20 comments:

  1. शुभ प्रभात. बहुत ही खूब . शुक्रिया.

    ReplyDelete
  2. kya khoob farmaya hai !

    ReplyDelete
  3. nice girl
    sundar yehsas par shul ki jagha kucch or hona chahiye dost .

    ReplyDelete
  4. vaah!!!! kafi ahm...badhiya prastuti..

    ReplyDelete
  5. देखा है पहली बार साजन की आँखों मे प्यार ....वाह वाह बहुत खुब !

    ReplyDelete
  6. Namaskaar Pandey ji,
    khub likhte hain !
    -gyanchand marmagya

    ReplyDelete
  7. बहुत हि सुन्दर ...........
    क्या बात निकाली है आपने एक दम से दिल से .

    ReplyDelete
  8. bahut koob kahi aapne
    kash en kajaraare naino mai kabhi aansoo naa aay

    ReplyDelete
  9. bahut achchha bhai.

    ReplyDelete
  10. prem ke raaste bhi ajib hote hain aur sabhi ko yun hi laagta hai pahli pahal. par meetha meetha dard bhi chahke jagay jata hai.

    ReplyDelete

Popular Posts