Followers

Saturday, January 15, 2011

आलिंगन


चंचल चितवन देख तुम्हारा
अब फूल भी भरती आहें
महक उड़े जब तेरे तन की
आलिंगन को तरसे बाहें //

डगर-डगर और खेत-खेत की
हरियाली गीत ख़ुशी की जाएं
कब आओगी,कब आओगी
प्रश्न पूछती मेरे घर की राहें //
आलिंगन को तरसे बाहें //

13 comments:

  1. bhabhi ji se batana padega mujhe aur to baki sab theek hai!!

    ReplyDelete
  2. anand bhaiya se thori si sahmati meri bhi hai..:)

    ReplyDelete
  3. bhoot achhi rachna hai ye dil ko dhush kar diya likhne wale ko mai bdhae dena chahunga jai mithila jai hind

    ReplyDelete
  4. Babanji, very nice, sweet little romantic poem.................keep it up!!!

    ReplyDelete
  5. जय हो, भगवान आपकी इच्छायें पूर्ण करे, सोच समझ कर।

    ReplyDelete
  6. बाहें तो तरसती लेकिन खेत ही क्योँ ? ......जरा ध्यान रखना ..दुनिया बड़ी जालिम है

    ReplyDelete
  7. सुंदर अभिव्यक्ति....!!

    ReplyDelete
  8. बबन भाई,पहले इन मोहतरमा से परिचय कराइये.....आपके कदम भी भटक गए है क्या????? हा हा हा
    मजाक कर रहा हूँ.....सुन्दर रचना के साथ-साथ गजब की प्रस्तुती....आपको बहुत-बहुत बधाई..

    ReplyDelete
  9. सुंदर अभिव्यक्ति...बहुत-बहुत बधाई|

    ReplyDelete
  10. Babban ji..bahut sunder. bahut romentic.wah

    प्रश्न पूछती मेरे घर की राहें //lekin ye swaal.
    आलिंगन को तरसे बाहें //aur ye khayaal..wah.

    ReplyDelete
  11. बहुत खूब...आनंद आ गया।

    ReplyDelete
  12. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete

Popular Posts