Followers

Friday, January 21, 2011

कामना


ख्वाहिस है मेरे मन में ,तेरे अंगना मैं आऊं
करके सोलह श्रींगार , तुमको मैं ललचाऊं
काले बादल से रंग मांग कर,काजल मैं पहनुगी
प्यार का तेरा पंख लगाकर ,आँगन में चहकुंगी //

उमड़-घुमड़ कर बदरा सी मैं,प्रेम रस बन बरसूँ
आलिंगन में बंधकर तेरे ,माँ बनने को तरसूँ
दो बच्चो की माँ बनकर, मैं उनके साथ चलूंगी
ममता और वात्सल्य का दीपक बन,तेरे संग जलूँगी //

12 comments:

  1. बबन जी, बहुत खूबशूरत रचना है... आपको बहुत बहुत साधुबाद इस रचना के लिये..-

    सादर
    अनूप परिहार

    ReplyDelete
  2. जय हो, गंगा सा प्रवाहमयी है आपका साहित्यिक बहाव।

    ReplyDelete
  3. बबन भाई, श्रृंगार रस से भरपूर इस रचना के लिए आपको ढेर सारी बधाई. बहुत ही सुन्दर और प्रशंसनीय रचना. बहुत खूब.

    ReplyDelete
  4. matretav aur parivar ke saath bandhane ka sunder ullekh hai

    ReplyDelete
  5. bahut badiya babn ji bahut achchhi prastuti hai

    ReplyDelete
  6. i m very thankful to all of my friends...mere lap-top kharab hai ....maafi chahta hun //

    ReplyDelete
  7. उमड़-घुमड़ कर बदरा सी मैं,प्रेम रस बन बरसूँ.....वाकई बहुत सुन्दर....भाई जी.....

    ReplyDelete
  8. पाण्डेय जी,
    सुना है आपका लैप टाप खराब है लेकिन मन तो खराब नही लगता है।जवन फोटो लगाए हैं, उसे देखकर तो मेरा मन भटक रहा है कि क्या लिखूं।हमके भुला मत,तोहरे कामे आईब।लगल रह .......।

    ReplyDelete
  9. सुन्दर रचना !

    गणतंत्र दिवस की बहुत बहुत बधाई !

    ReplyDelete
  10. "ला-जवाब" जबर्दस्त!!

    ReplyDelete
  11. DEAR SIR,
    YOUR THINKING IS BEYOND APPRICIABLE...
    LOVE BETWEEN HUSBAND AND .WIFE IS VERY ESSENTIAL FOR A GOOD LIFE

    ReplyDelete

Popular Posts