Followers

Saturday, October 29, 2011

तुम हो तो !!


तुम हो तो
चहूँ ओर बसंत
तुम नहीं तो
हर मौसम का अंत //

तुम हो तो
मेरी कुछ नहीं चलती
तुम नहीं तो
मेरी डफली बजती //

तुम हो तो
चहूँ ओर है मेला
तुम नहीं तो
हर तकिया गीला //

8 comments:

  1. रवि को रविकर दे सजा, चर्चित चर्चा मंच

    चाभी लेकर बाचिये, आकर्षक की-बंच ||

    रविवार चर्चा-मंच 681

    ReplyDelete
  2. मन को नम करती अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  3. भावो का सुन्दर समन्वय

    ReplyDelete
  4. बहुत खूब ... तुम नहीं तो तकिया गीला ... प्रेम की तरंगे लिए ...

    ReplyDelete
  5. वाह बब्बन भाई क्या बात है ..तू है तो चहूं ओर बंसत है....दिवाली की देर से शुभकामनाएं स्वीकार करें

    ReplyDelete

Popular Posts