Followers

Tuesday, October 11, 2011

अब चैन कहाँ


कचनार सी कमर लचीली
और चुम्बक हैं तेरे नैन
नींद नहीं अब आँखों में
न आता दिन में चैन //

बिन पिए अब मैं ,बहकता
बिन कारण के हँसता -रोता
बिन पंख मैं उड़ता रहता
मैं कहता, अब दिन को रैन //

5 comments:

  1. श्रंगारोत्कर्षोद्गार....

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति |
    हमारी बधाई स्वीकारें ||


    http://dcgpthravikar.blogspot.com/2011/10/blog-post_10.html

    ReplyDelete
  3. बेहद ख़ूबसूरत एवं भावपूर्ण रचना!

    ReplyDelete
  4. बहुत ही सुंदर ।
    मेरे पोस्ट पर आपका निमंत्रण है धन्यवाद ।.

    ReplyDelete
  5. बहुत हि सुन्दर
    कम शब्दों में पूरा किस्सा....

    ReplyDelete

Popular Posts