Followers

Monday, October 8, 2012

आओ ! खेलें प्यार-प्यार


प्यार डंक है
प्यार है पंख
आओ बजाएं प्यार का शंख //

प्यार नदी है
प्यार है झरना
फिर क्यों डरना //

प्यार आम है
प्यार है लीची
इसके खातिर तुम बन  जाओ दधिची //

प्यार जलेबी
प्यार है हलवा
सबको दिखाओ इसका जलवा /

15 comments:

  1. प्यार जलेबी
    प्यार है हलवा
    सबको दिखाओ इसका जलवा /
    SIR AAPKA ANDAAZ NIRALA HAI .. WAAH!
    MADHVI mishra

    ReplyDelete

  2. bahut badhiya likha hai,pyaar ke anek roop hai jinme se kuchh ka varnan aapne kiya hai....

    ReplyDelete
  3. bahut acha--pandey ji ,,a new touch

    ReplyDelete

  4. प्यार आम है
    प्यार है लीची
    इसके खातिर तुम बन जाओ दधिची //.......दधीचि........

    ऐसी रसीली विटामिन और सम्पूरण से भरपूर कविता का मुद्दत से इंतज़ार था .

    ram ram bhai
    मुखपृष्ठ

    मंगलवार, 9 अक्तूबर 2012
    प्रौद्योगिकी का सेहत के मामलों में बढ़ता दखल (समापन किस्त )

    ReplyDelete
  5. हलुवा कर लो भैया हलवा को .


    प्यार जलेबी
    प्यार है हलवा
    सबको दिखाओ इसका जलवा /

    प्यार का प्यार स्वीट डिश की स्वीट डिश .बहुत खूब .हमतो कहते ही हैं इसे स्वीट डिश .

    ReplyDelete
  6. बड़े ही दमदार हाईकू..

    ReplyDelete
  7. उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवार के चर्चा मंच पर ।।

    ReplyDelete
    Replies
    1. शुक्रिया रविकर जी ...
      इस पोस्ट को चर्चा मंच में शामिल करने के लिए

      Delete
  8. प्यार जलेबी
    प्यार है हलवा
    सबको दिखाओ इसका जलवा,,,,,वाह,,,आपका जबाब नही बबन जी,,,,

    ReplyDelete
  9. aise pyaar ko jankar muh me pani aa raha hai...

    ReplyDelete
  10. प्यार के खातिर दधिची बनना तो लाजिमी है,

    ReplyDelete

Popular Posts