Followers

Sunday, November 6, 2011

कसम


मैंने ...
कभी फूलों को देखकर
प्यार न करने की कसम खाई थी //
मगर!
आपकी मुस्कुराहट ने
मेरी कसम तोड़ दी //

6 comments:

  1. wo muskurahat hi kya jo madhosh na kar de; wo kasam hi kya jo todi na jaaye:)

    ReplyDelete
  2. बबन जी ,...बहुत गहरी बात आपने अपनी रचना से कह दी..
    सुंदर पोस्ट...मेरे नए पोस्ट में स्वागत है ...

    ReplyDelete
  3. WO PHOOL HI KYA JO N MOORJHAYE ? @ UDAY TAMHANEY.

    ReplyDelete

Popular Posts