Followers

Saturday, April 14, 2012

भूख तो कम हुई ,प्यास बढती गई


भूलने की कोशिस में , तुम और याद आती गई
हवा तो कम हुई , मगर वारिस बढती गई //

यादों की दरिया में मैं डूबता चला गया
भूख तो कम हुई ,मगर प्यास बढती गई //

आपकी मस्त साँसें भी गज़ब ढाती है मुझ पर
मौसम तो सर्द हुई , मगर तन की गर्मी बढती गई //

14 comments:

  1. आपकी मस्त साँसें भी गज़ब ढाती है मुझ पर
    मौसम तो सर्द हुई , मगर तन की गर्मी बढती गई //
    इश्क की नमकीनी और गर्मी है भाई साहब यह .बढ़िया रचना भाव जगत को रूपायित करती ...

    ReplyDelete
  2. यादों की दरिया में मैं डूबता चला गया
    भूख तो कम हुई, मगर प्यास बढती गई..........
    kya baat hai...anubhavjany panktiyan...

    ReplyDelete
  3. भूलने की कोशिस में , तुम और याद आती गई
    kya khub kaha hai...........

    ReplyDelete
  4. यादों की दरिया में मैं डूबता चला गया
    भूख तो कम हुई ,मगर प्यास बढती गई //

    बहुत सुंदर रचना...बबन जी .....
    .
    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: आँसुओं की कीमत,....

    ReplyDelete
  5. शुक्रिया ... लाज़वाब लेखन SIR JEE

    ReplyDelete
  6. जालिम शेर -

    कातिल निगाह



    नजरें रख के चित्र पर, दिया शेर पर ध्यान ।

    हुआ कलेजा चाक फिर, दिया दर्द एहसान ।।

    ReplyDelete
  7. आपकी मस्त साँसें भी गज़ब ढाती है मुझ पर
    मौसम तो सर्द हुई , मगर तन की गर्मी बढती गई //...bahut sunder

    ReplyDelete
  8. चरफर चर्चा चल रही, मचता मंच धमाल |
    बढ़िया प्रस्तुति आपकी, करती यहाँ कमाल ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच
    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  9. बढाते रहिये प्यास!!

    ReplyDelete
  10. बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  11. भूलने की कोशिस में , तुम और याद आती गई
    हवा तो कम हुई , मगर वारिस बढती गई //

    बहुत सुंदर.

    ReplyDelete
  12. आपकी मस्त साँसें भी गज़ब ढाती है मुझ पर
    मौसम तो सर्द हुई , मगर तन की गर्मी बढती गई // excellent

    ReplyDelete

Popular Posts