Followers

Thursday, March 17, 2011

जब लेती तुम गलबहियां



अंग- अंग से यौवन बरसे
अँखियाँ दागे फुलझरियां
पक्षी बन मन उड़ जाता
जब लेती तुम गलबहियां //

हर महीना फागुन सा लगता
जब तेरी पायल बजती
हर महीना सावन सा लगता
जब तेरी आँचल उड़ती
चेहरे पर गेसू उड़ती ऐसे
मानों करती है शशि
काले घन से अठखेलियाँ //
पक्षी बन मन उड़ जाता
जब लेती तुम गलबहियां //

अंग-अंग मेरे, तेरे होंगे
सरगम गायेंगी सांसें
संगम होंगें उर के
जब मिल जायेंगी बाँहें
कोयल चहके या न चहके
बगिया महके या न महके
महक उठेगी अमरइयां
पक्षी बन मन उड़ जाता
जब लेती तुम गलबहियां //

11 comments:

  1. बबन जी, ये फाल्गुन का रंग-उमंग सब कुछ उंडेल दिया इन शब्दों के साथ... बहुत बढ़िया

    ReplyDelete
  2. Very nice keeping in with the 'Basant.'

    ReplyDelete
  3. bahut badhiya.. holi par sab chalega ! kahe door khade hain.. galbahiyaa ho lijiye.. photo mast lagaye hain..

    ReplyDelete
  4. बहुत बढ़िया लगा| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  5. जय हो, आपकी होली मनमोहक बीते।

    ReplyDelete
  6. very romantic.
    होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  7. बहुत प्रेममयी रचना..होली की हार्दिक शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  8. Baban ji achchi rachna, holi ki hardik shubhkamnaye............!!

    ReplyDelete
  9. भारतीय ब्लॉग लेखक मंच शहीद दिवस पर आज़ादी के दीवाने शहीद-ए-आज़म भारत माता के वीर सपूत भगत सिंह सहित उन सभी वीर सपूतो को नमन करता है जिन्होंने भारत माता को आजाद करने के लिए अपने प्राणों की आहुति दे दी.
    आईये हम सब मिलकर यह संकल्प ले की भारत की आन-बान और शान के लिए हम सदैव तत्पर रहेंगे. यह मंच आपका स्वागत करता है, आप अवश्य पधारें, यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . आपकी प्रतीक्षा में ....
    भारतीय ब्लॉग लेखक मंच

    ReplyDelete
    Replies
    1. http://ramkrishnakapana.blogspot.com/p/about-me.html

      Delete
  10. http://ramkrishnakapana.blogspot.com/

    ReplyDelete

Popular Posts