Followers

Monday, December 5, 2011

मेरी अनुभूति -1


फूल बनने को आतुर
कली में समाहित
पंखुड़ियों को
यह आभास भी नहीं हुआ होगा
कि...... एक दिन
उन्हें फूल से अलग हो जाना होगा //

ठीक इसी तरह
मुझे मालूम नहीं था प्रिय !
कि तुम्हारा साथ
एक दिन
इन्हीं पंखुड़ियों की तरह
टूट जाएगा //

7 comments:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ||
    बधाई ||

    ReplyDelete
  2. bahut sundar... chitra kahan se laate hain aap... adbhud !!

    ReplyDelete
  3. पंखुड़ियों का जीवन तो है ही कुछ लम्हों का ... पर भरपूर जीवन हो तो ये टूटना भी सार्थक हो जाता है ...

    ReplyDelete
  4. बेहतरीन सुंदर पोस्ट ,....

    ReplyDelete
  5. बिछुडने के अहसास का सुंदर शब्दिकरण. सुंदर प्रस्तुति.

    बधाई.

    ReplyDelete

Popular Posts